Success Stories2 Comments

Hello Friends…..

मेरा नाम  संदीप सिंह धाकड़ है और मैं  अयोध्या( उत्तर प्रदेश) का रहने वाला हूं मैंने वहीं के ही एक अच्छे कॉलेज से इंजीनियरिंग इलेक्ट्रॉनिक सब्जेक्ट से की 2016 में  मुझे गर्व हो रहा है कि इस वेबसाइट पर आप सभी को मेरी सफलता की कहानी सुना रहा हूं| सबसे पहले तो मैं examreviewonline.com तहे दिल से धन्यवाद देना चाहूंगा क्योंकि इस वेबसाइट ने मेरी बहुत मदद की क्योंकि इस वेबसाइट के माध्यम से जो मॉक टेस्ट मिलते थे उन के माध्यम से मैंने इस परीक्षा की तैयारी की .2018  में मैंने JET Clerk Officer की परीक्षा पास कर ली थी|

तो दोस्तों मेरी कहानी कुछ इस तरह से स्टार्ट होती है मैं शुरु से ही एक एवरेज स्टूडेंट रहा हूं जैसे ही मेरी ग्रेजुएशन कंप्लीट हो गई उस समय मैंने jet  मैं जाने का निर्णय लिया करीब 2 सालों तक मैं इस परीक्षा की तैयारी करता रहा परंतु मैं कोई सा भी एग्जाम नहीं निकाल सका| इस परीक्षा की तैयारी करते-करते मैं पूरी तरह से थक चुका था और मैं हार मान कर बैठ चुका था| फिर मेरे दोस्तों ने मुझ में आत्मविश्वास चढ़ाया और मैंने इस परीक्षा की तैयारी करना शुरु कर दी करीब 6 महीने तक मैंने अपने पूरे हंड्रेड परसेंट के साथ इस परीक्षा की तैयारी की और  जनवरी 2018 में मैंने इस परीक्षा को पास कर दिया| और आज मैं JET Clerk Officer के पद पर कार्य कर रहा हूं दोस्तों मुझे यह बताते हुए बहुत ही खुशी हो रही है| कि मैं अपनी सफलता की स्टोरी आप सभी को बता रहा| दोस्तों आप सभी से बस इतना ही कहूंगा कि आप ज्यादा से ज्यादा इंटरनेट का प्रयोग करिए और उस के माध्यम से पढ़ाई करिए आपको सफलता निश्चित मिलेगी|

परीक्षा के दौरान मेरी रणनीति

  1. मैं 8  से 10 घंटे  इस परीक्षा की तैयारी करता था| मैंने इस परीक्षा की तैयारी फिक्स टाइम टेबल बनाकर किस परीक्षा की तैयारी की| और  मैंने अपने खाने-पीने का पूरी तरह से ख्याल रखा मैं इस तरह की चीजों को नहीं खाता था जिससे मेरी तैयारी में कोई बाधा आए| मैं ज्यादा पेट भर कर खाना नहीं खाता था इस वजह से मैं इतनी देर तक पढ़ पाता था
  2.  बहुत सारे टॉपिक बार-बार रिपीट होते थे इस वजह से मुझे उनका बहुत ज्यादा फायदा मिला
  3. और मैं  रोजाना अपने खुद के नोट्स बनाता था| इस वजह से मुझे चीजों को पढ़ने में काफी आसानी होती थी क्योंकि वह चीजों को अपनी तरह से लिखता  था|
  4. और मैं छोटे छोटे टारगेट बनाता था आपने  और उनको पाने के लिए दिन रात मेहनत करता रहता इस तरह से वह आदत मेरे अंदर पनप गई थी| और मैंने अपनी स्पीड को भी मेंटेन किया|

2 Comments on this article

Add a comment